21 मई का राशिफल: बन रहा है राजलक्ष्मी योग, 8 राशियों के लिए खास है साेमवार

Loading...

सोमवार को चंद्रमा और मंगल का दृष्टि संबंध होने से राजलक्ष्मी योग बन रहा है। इन शुभ योग का सीधा फायदा 8 राशियों को मिलेगा। इससे वृष, मिथुन, कर्क, सिंह, कन्या, वृश्चिक, मकर और मीन राशि वाले लोगों की सेविंग बढ़ेगी। नौकरीपेशा लोगों के काम तरक्की में जुड़ेंगे। बिजनेस करने वाले लोगों को पुराना निवेश फायदा दे सकता है। इसके अलावा ये 8 राशियां फालतू खर्चे और नुकसान से बच सकती हैं। वहीं मेष, तुला, धनु और कुंभ राशि वालों के लिए ग्रहों की स्थिति ठीक नहीं है। जिससे इन 4 राशि वालों को शुभ योगों का फायदा नहीं मिल सकेगा।

पढ़ें 21 मई सोमवार का राशिफल –

मेष (Aries) –
आज कुछ नया करने की कोशिश न करें तो ही अच्छा है। ध्यान रखें कि आप अपनी बात जितनी जोर से कहेंगे, समस्या सुलझने के बजाए उतनी उलझेगी। आज आप कुछ गलत फैसले भी ले सकते हैं। निवेश और लेन-देन में सावधानी रखें। नौकरी और बिजनेस के किसी मामले को लेकर टेंशन रहेगी। खर्चे पर कंट्रोल रखें। दिनभर आप बिजी भी रहेंगे। तनाव महसूस होगा। सेहत को लेकर आपको सावधान रहना होगा। लापरवाही न करें। जरूरी चेकअप करवाते रहें। मौसमी बीमारी की संभावना है।

क्या करें – ऑफिस या गाड़ी पर अपनी सीट पर लाल कपड़ा रखकर बैठें।

वृषभ (Taurus) – आपके लिए दिन सकारात्मक हो सकता है। पैसों का फायदा और कार्यक्षेत्र में कोई बड़ा काम आपके नाम होने की संभावना है। प्रेम संबंध भी मजबूत हो सकते हैं। अपनी इच्छाएं पूरी करने के लिए आप कोशिश करेंगे और सफल भी हो जाएंगे। दूसरों को भावनात्मक ढंग से समझने की कोशिश करेंगे। परिवार की कोई अनबन या अनसुलझा मामला निपटाने में सफल रहेंगे। उधार दिया पैसा वापस मिल सकता है। पुराने रोगों से छुटकारा मिल सकता है। आपकी सेहत में सुधार हो सकता है।

क्या करें – केले का दान करें।

मिथुन (Gemini) – आर्थिक नजरिए से दिन प्रोफेशनल लाइफ के लिए अनुकूल रहेगा। पति-पत्नी के बीच गलतफहमी दूर हो सकती है। दाम्पत्य जीवन सुखमय रहेगा। आपके अपने अनुभव या ज्ञान से तारीफ मिल सकती है। काम का बोझ भी कम हो जाएगा। पार्टनर से संबंध सुधरने लगेंगे। पार्टनर भी आपको पूरा समय देगा। अच्छा बोलकर आप अपना काम पूरा करवा लेंगे। मन में कई तरह के विचार चलते रहेंगे। महत्वपूर्ण मामलों पर लोगों से बातचीत का मौका मिल सकता है और आपको इसका फायदा भी होगा।

क्या करें – तुलसी के गमले में थोड़े से चावल डालकर प्रणाम करें।

कर्क (Cancer) – बिजनेस में सफलता और फायदा होगा। कार्यक्षेत्र में विवाद खत्म हो सकता है। पार्टनर के साथ दिन बीतेगा। आपको पार्टनर से सम्मान और प्यार मिलेगा। पैसों के मामलों में नए मौके मिल सकते हैं। कुछ कारणों से पुरानी बातें और यादें ताजा हो सकती हैं। महंगी चीजों की खरीददारी भी हो सकती है। नौकरी-धंधे की टेंशन खत्म हो सकती है। दिन अच्छा रहेगा। चंद्रमा आपकी ही राशि में है। एकाग्रता से काम लें। परेशानियां खत्म हो जाएंगी। कोई उलझी हुई स्थिति हो, तो बातचीत करने से उसका समाधान मिलेगा।

क्या करें – पानी पीने के लिए स्टील या कांच के गिलास का उपयोग करें, बोतल से नहीं पिएं।

सिंह (Leo) – नौकरीपेशा लोगों के लिए समय अनुकूल है। पदोन्नति के योग बन रहे हैं। ऑफिस में आपको कोई नया काम दिया जा सकता है, खुद को तैयार रखें। आप कामकाज में सफल भी हो जाएंगे। परिवार से पूरा सहयोग भी आपको मिलेगा। यात्रा के योग बन रहे हैं। नए लोगों से मुलाकात होने के योग हैं। पद में बड़े किसी व्यक्ति से सहयोग मिल सकता है। आपका कॉन्फिडेंस बढ़ा हुआ रहेगा। अपनी मर्जी से व्यवहार करेंगे। सेहत के मामले में संभलकर रहें।

क्या करें – पानी में तिल मिलाकर सूर्य को जल चढ़ाएं।

कन्या (Virgo) – आपकी आमदनी बढ़ेगी। कार्यस्थल पर आपको सहयोग भी मिलेगा। पार्टनर के साथ समय बीतेगा। पार्टनर के साथ कहीं घूमने जा सकते हैं। आपको बिजनेस के कुछ नए मौके मिल सकते हैं। आज आपको आगे बढ़कर लोगों से बातचीत करनी चाहिए और अपना नेटवर्क तैयार करें। धैर्य रखें। आपकी कल्पनाशीलता आपको बहुत कुछ नई चीजें सिखाएगी। आपके काम पूरे होंगे। फायदा मिलेगा। दोस्तों के साथ मिलने का कोई कार्यक्रम भी बन सकता है। पैसों की स्थिति में सुधार करने के लिए सही समय है।

क्या करें – मुलेठी खाएं।

तुला (Libra) – बिजनेस में विवाद की स्थिति बन सकती है। किसी कारण से अपने काम के लिए आपके पास समय नहीं बच पाएगा। अपनी कल्पनाशीलता को भी थोड़ा नियंत्रण में रखें। आपके और प्रेमी के बीच तनाव चल रहा है, तो उसे सुलझाने का सही समय नहीं है। लोग आपका गलत फायदा भी उठा सकते हैं। सावधान रहें। जो काम आज हो सकता हो, उसे कल पर न टालें। जैसा चल रहा है, चलने दें।

क्या करें – अपोजिट जेंडर वाले को चॉकलेट खिलाएं।

वृश्चिक (Scorpio) – बिजनेस का कोई प्रस्ताव मिलता हैं, तो उसमें सफलता की संभावना बनेगी। बहुत से मामले में आपको किस्मत का साथ मिल सकता है। आज आपको सकारात्मक रहना चाहिए। प्रेमी के प्रति जिम्मेदारियां और बढ़ सकती है। आप शांत रहें। नए लोगों से आपकी मुलाकात सफल हो सकती है। सम्मान, प्रतिष्ठा और हैसियत बढ़ाने की दिशा में आप सक्रिय हो सकते हैं। करियर में आगे बढ़ने के नए मौके सामने आ सकते हैं। आपकी योजनाओं को समर्थन मिलेगा। जो चीजें कारगर न हों उनको छोड़ते हुए आगे बढ़ जाएंगे।

क्या करें – हनुमान मंदिर में लाल रेशमी धागा दान करें।

धनु (Sagittarius) – लव लाइफ के लिए दिन अच्छा नहीं है। पार्टनर से अनबन हो सकती है। पेट के निचले हिस्सों में तकलीफ हो सकती है। मसालेदार भोजन से बचें। चोट लग सकती हैं, सावधान रहें। रोजमर्रा और पार्टनरशिप के कुछ कामों में भी रुकावटें आ सकती हैं। चंद्रमा की स्थिति से थोड़े परेशान भी हो सकते हैं। दिन सावधानी से बिताना ठीक रहेगा। जोश में आकर कोई जोखिम न लें। आपने अपने कामों के लिए जो प्लानिंग की है उसे बार-बार न बदलें। साझेदारी के काम में एक-एक कदम सावधानी से बढ़ाएं। बहस से भी दूर रहें।

क्या करें – किसी ब्राह्मण को जनेऊ दान दें।

मकर (Capricorn) – बिजनेस के लिए समय अच्छा रहेगा। निवेश से फायदा होगा। अच्छी खबर मिल सकती है। सफलता के भी योग बन रहे हैं। जीवनसाथी के साथ कहीं घूमने जा सकते हैं। लव लाइफ के मामले में दिन अच्छा रहेगा। आज किया हुआ अच्छा काम आने वाले दिनों में आपको बड़ा फायदा दे सकता है। आपको कोई जरूरी सूचना मिल सकती है। जिससे आपकी मुश्किल आसान हो जाएगी। पुराने किसी काम से फायदा होने के योग हैं। पुराना दोस्त भी अचानक आपके काम आ सकता है।

क्या करें – घर या ऑफिस की पुरानी झाड़ू बदल दें।

कुंभ (Aquarius) – घर और कार्यक्षेत्र दोनों जगह का माहौल तनावपूर्ण हो सकता है। अचानक धन हानि का योग भी है। वाहन सावधानी से चलाएं। अपने ही लोग आज आपसे उलझ सकते हैं। कुछ लोगों का व्यवहार आपको समझ नहीं आएगा। जीवनसाथी के साथ अनबन हो सकती है। लवर पर शक न करें। पुरानी बातों पर बहस हो सकती है। सेहत के मामले में संभलकर रहें। छोटी-मोटी चोट लग सकती है। वाहन सावधानी से चलाएं।

क्या करें – पीपल के पेड़ में जल चढ़ाएं और घी का दीपक लगाएं।

मीन (Pisces) – बिजनेस में नई योजनाएं बन सकती हैं। पार्टनर से सहयोग और पैसा मिल सकता है। दाम्पत्य जीवन में खुशहाली रहेगी। बिजनेस में आगे बढ़ने के लिए नए मौके की तलाश भी आप कर सकते हैं। खुद पर भरोसा और धैर्य रखें। काम करने की ताकत और बातचीत भी बेहतर रहेगी। नए विचार दिमाग में आएंगे। किसी खास मामले को लेकर आपकी सोच बदल सकती है। अविवाहित लोगों को विवाह प्रस्ताव मिल सकते हैं। कामकाज सुचारू रूप से चलता रहेगा। राजनीतिक क्षेत्र के लोगों के लिए समय पहले से अच्छा हो सकता है।

क्या करें – तुलसी को घी का दीपक लगाएं। – Source

मलमास का बड़ा शुक्रवार घी का दीपक जलादे इस तरह पैसा तो क्या बंगला भी होगा

दोस्तों मलमास 16 मई से शुरू हो गया है और 13 जून को समाप्त होगा और ऐसे में इस एक महीने ये आप ये काम करेंगे तो भगवान विष्णु की आप पर विशेष कृपा रहेगी।

ऐसा माना जाता है कि यह मास हर व्यक्ति विशेष के लिए तन-मन से पवित्र होने का समय होता है। इस दौरान श्रद्धालुजन व्रत, उपवास, ध्यान, योग और भजन- कीर्तन में संलग्न रहते हैं और अपने आपको भगवान के प्रति समर्पित कर देते हैं। इस तरह यह समय सामान्य पुरुष से उत्तम बनने का होता है, मन के मैल धोने का होता है। यही वजह है कि इसे पुरुषोत्तम मास का नाम दिया गया है। अधिकमास में क्या करना उचित और संपूर्ण फलदायी है।

Loading...

दोस्तों यदि आप इस महीने में कभी भी गरीबो को खाना दान या वस्त्र दान कर सकते है ऐसा करने से पुण्य प्राप्त होता है

दोस्तों मलमास के दौरान आपको दुलसी के सामने घी का दीपक जलना है और ॐ वासुदेवाय नम मंत्र का जाप करना है साथ ही अपनी मनोकामना मन में बोलनी है ऐसा करने से आपकी मनोकामना जल्द ही पूरी हो जाएँगी

दोस्तों मलमास के दौरान हो सके तो आप पीले रंग के वस्त्र या पीले अनाज, किसी ब्राह्मण या जरूरतमंद को दान करते हैं तो अपको अवश्य ही अक्षत पुण्य फल की प्राप्ति होती है। – Source

इस पौधे की सिर्फ़ 50 ग्राम पत्ती 100 ग्राम पानी में उबाल कर पिए फिर देखे इसका कमाल, ज़रूर अपनाएँ और शेयर करे

पथरी रोग मूत्र संस्थान से सम्बंधित रोग होता है। पेशाब के साथ निकलने वाले क्षारीय तत्व जब शरीर में किसी कमी के कारण पेशाब की नली, गुर्दे या मूत्राशय में रुक जाते हैं तो हवा के कारण यह छोटे-छोटे पत्थर आदि का रूप ले लेते हैं। पथरी छोटे-छोटे रेत के कणों से बढ़कर धीरे-धीरे बड़ी होती जाती है। यह खुरदरी, चिकनी, सख्त, गोल आदि आकारों में पाई जाती है।

पथरी होना आजकल एक आम समस्या बन गयी है अगर किसी को पथरी हो जाये तो उसको बहुत तकलीफ झेलनी पढ़ती है इसीलिए आज हम आपको इस पोस्ट में पथरी के इलाज के बारे में बताएँगे जो एकदम सरल और प्रभावी भी है पथरी औरतों की अपेक्षा मर्दों में तीन गुना अधिक पाई जाते है और ज़्यादातर पथरी 20 से लेकर 30 साल तक के लोगों में देखने को मिलते है अगर आप जानना चाहते हैं के पथरी के लक्षण क्या होते हैं और इसका इलाज कैसे संभव है तो इस पोस्ट को अंत तक पढ़िए। पथरी एक ऐसा बिमारी है जो रोगी को बेहद असहनीय दर्द देता है। पथरी के रोगी को कई तकलीफों का सामना करना पड़ता है।

आजकल के प्रदूषित वातावरण और गलत खाना-पान के कारण मनुष्य के शरीर में कई बीमारियों ने जन्म ले लिया है। पथरी बनने का मुख्य कारण होता है यूरिक एसिड, फोस्फोरस, कैल्शियम और ओक्जेलिक एसिड के मिलने से होता है। यह किसी भी इंसान को हो सकता है। पथरी दो प्रकार के होते है एक बड़ा और एक छोटा। छोटा वाला पथरी बाहर निकल जाता है लेकिन बड़ा वाला नहीं निकल पाता जिस कारण से रोगी को बहुत दर्द सहना पड़ता है। आज हम आपको पथरी को तुरंत गला कर बाहर निकालने के कुछ घरेलु उपाय बताने जा रहे है।

स्टोन होने के लक्षण :

  • जब शरीर के किसी भाग में पथरी पैदा हो जाती है तो उसके कारण रोगी को पेशाब करते समय काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है जैसे- पेशाब का रुक-रुककर आना , पेशाब के साथ खून या पीब का आना आदि। पथरी के दर्द के कारण कभी-कभी रोगी में उल्टी आने या जी मिचलाने जैसे लक्षण प्रकट हो जाते हैं।

पथरी के कारण :

  • किसी पदार्थ के कारण जब मूत्र सान्द्र (गाढ़ा) हो जाता है तो पथरी निर्मित होने लगती है। इस पदार्थ में छोटे छोटे दाने बनते हैं जो बाद में पथरी में तब्दील हो जाते है। इसके लक्षण जब तक दिखाई नहीं देते तब तक ये मूत्रमार्ग में बढ़ने लगते है और दर्द होने लगता है। इसमें काफी तेज दर्द होता है जो बाजू से शुरु होकर उरू मूल तक बढ़ता है।
  • जिस समय वायु मूत्राशय में आये हुए शुक्र के साथ पेशाब एवं पित्त के साथ कफ को सुखाती है तब शरीर में पथरी पैदा होती है। पथरी होने पर रोगी के पेड़ू में दर्द होता है और उसका पेशाब भी बन्द हो जाता है।

आवश्यक सामग्री :

  1. पुदीना : 50 ग्राम
  2. गरम पानी : 100  ग्राम

बनाने की विधि और सेवन का तरिका :

  • पुदीना को पाचन के लिए सबसे अच्छी घरेलू औषधि (home remedy) माना जाता है जो पित्त वाहिका तथा पाचन से संबंधित अन्य रसों को बढ़ाता है। पुदीना में तारपीन (terpenes) भी होता है जो कि किडनी और पित्ताशय की पथरी को गलाने में सहायक माना जाता है। पुदीने की पत्तियों से बनी चाय गॉल ब्लेडर स्टोन से राहत दे सकती है।
  • उपचार- १०० ग्राम पानी को गरम करें, इसमें ५० ग्राम ताजी या २० ग्राम सूखी पुदीने के पत्तियों को उबालें। हल्का गुनगुना रहने पर पानी को छानकर इसमें शहद मिलाएं और पी लें। इस चाय को दिन में दो बार पीया जा सकता है। इससे आपकी दौनो पथरी गलंने लगेगी और बाहर निकल जाएगी।

पथरी को गलाने के अन्य घरेलू उपाय :

  1. नीम : नीम का काढ़ा बनाकर पीने से पेट की पथरी गल जाती है तथा पेट दर्द में आराम मिलता है। नीम के पत्तों की 20 ग्राम राख को थोड़े दिनों तक लगातार पानी के साथ दिन में 3 बार लेने से पथरी में लाभ मिलता है।
  2. अपामार्ग : 2 ग्राम अपामार्ग की जड़ को पानी के साथ पीस लें। इसे प्रतिदिन पानी के साथ सुबह-शाम पीने से पथरी खत्म हो जाती है।
  3. कपास : कपास की जड़ का काढ़ा बनाकर पीने से पेट की पथरी गल जाती है तथा पेट का फूलना बन्द हो जाता है।
  4. सत्यानाशी : सत्यानाशी का दूध एक चौथाई से 1 ग्राम की मात्रा में प्रतिदिन लेने से पथरी खत्म हो जाती है।
  5. सहजन : सहजन की जड़ का काढ़ा बनाकर गुनगुना करके पीने से पथरी रोग ठीक हो जाता है। सहजन की सब्जी बनाकर खाने से गुर्दे व मूत्राशय की पथरी घुलकर पेशाब के साथ निकल जाती है।
  6. मूली : 40 मिलीलीटर मूली के रस में 30 ग्राम अजमोद को मिलाकर पीने से पथरी गल जाती है तथा मल साफ होता है। मूली के पत्तों के 10 मिलीलीटर रस में 3 ग्राम अजमोद मिलाकर दिन में 3 बार पीने से पथरी गलकर निकल जाती है।
  7. कुलथी : 10 ग्राम कुलथी की दाल और 10 ग्राम गोखरू को एक साथ मिलाकर कूट लें तथा 200 मिलीलीटर पानी में डालकर उबाल लें। जब एक चौथाई पानी शेष रह जाए तो इसे छान लें। इसे आधा ग्राम शिलाजीत के साथ दिन में तीन बार पीयें। इससे पेट की गैस खत्म होती है तथा पथरी गल जाती है। कुलथी के बीजों का चूर्ण बनाकर प्रतिदिन सुबह-शाम 40 से 80 ग्राम की मात्रा में खाने से सभी प्रकार के पथरी रोग ठीक हो जाते हैं। 6 ग्राम कुलथी को 125 मिलीलीटर पानी में अधिक देर तक उबालें। फिर पानी को छानकर इसमे चौथाई भाग के बराबर मूली का रस मिलाकर प्रतिदिन सुबह-शाम पीने से पथरी गलकर नष्ट हो जाती है। रात को सोते समय 250 ग्राम कुलथी को 3 लीटर पानी में भिगो दें। सुबह उस पानी को उबालकर और छानकर उसमें नमक, कालीमिर्च, जीरा, हल्दी तथा शुद्ध घी का छौंका दें। इसका काढ़ा प्रतिदिन सुबह-शाम पीने से पेशाब की जलन, पेशाब का धीरे-धीरे आना तथा मूत्राशय की पथरी गलकर निकल जाती है।
  8. पथरचटा (पत्थर फोड़ा) : 10 ग्राम पथरचटा तथा 5 ग्राम कालीमिर्च को 50 मिलीलीटर पानी में मिलाकर पीसकर मिश्रण बना लें। इस मिश्रण को पानी के साथ प्रतिदिन सुबह-शाम 10 से 15 दिन तक खायें। इससे गुर्दे की पथरी गलकर निकल जाती है। 20 ग्राम पथरचटा की हरी पत्तियों को पानी के साथ बारीक पीस लें तथा उसमें चीनी मिलाकर प्रतिदिन सुबह-शाम पीयें। यह पानी सभी प्रकार की पथरी को ठीक करता है।
  9. अजवायन : 6 ग्राम अजवायन को प्रतिदिन फांकने (खाने) से गुर्दे व मूत्राशय की पथरी पेशाब के रास्ते निकल जाती है।
  10. अजमोद : 3 ग्राम अजमोद और 1 ग्राम जवाखार को मूली के पत्तों के साथ पीसकर एक कप रस निकाल लें। एक कप रस प्रतिदिन सुबह-शाम 10 से 12 दिन तक पीयें। इससे पेट की पथरी गल जाती है।
  11. गोखरू : 3 ग्राम गोखरू के चूर्ण को शहद के साथ मिलाकर भेड़ के दूध में घोल लें। प्रतिदिन सुबह-शाम सात दिन तक इसको पीने से सभी प्रकार की पथरी ठीक हो जाती है।
  12. फिटकरी : फिटकरी का फूला 4 ग्राम प्रतिदिन सुबह-शाम छाछ के साथ लेने से पथरी खत्म हो जाती है।
  13. छाछ : गाय के दूध की छाछ में 10 ग्राम जवाखार मिलाकर सेवन करने से पथरी गलकर निकल जाती है।
  14. मेहंदी : 10 ग्राम मेहंदी के हरे पत्तों को 500 मिलीलीटर पानी में डालकर उबालें। जब पानी उबलकर 150 मिलीलीटर बच जाए तो उसे छानकर पी जाएं। लगातार 15 दिन तक सुबह-शाम यह पानी पीने से दोनों प्रकार की पथरी गलकर निकल जाती है।
  15. प्याज : प्याज के दो चम्मच रस में मिश्री मिलाकर पीने से 20 से 25 दिनों के अन्दर ही पथरी गलकर नष्ट हो जाती है। प्याज के रस में चीनी डालकर शर्बत बनाकर पीने से पथरी कट-कटकर बाहर निकल जाती है। 50 मिलीलीटर प्याज के रस को सुबह खाली पेट रोजाना पीते रहने से गुर्दे व मूत्राशय (पेशाब के एकत्रित होने का स्थान) की पथरी टुकड़े-टुकड़े होकर निकल जाती है। प्याज के 10-20 मिलीलीटर ताजा रस को दिन में 3 बार तक 3 महीने तक पीने से गुर्दे और मसाने की पथरी गलकर निकल जाती है और पेशाब साफ हो जाता है।
  16. जामुन : जामुन की गुठलियों को सुखाकर तथा पीसकर चूर्ण बनाकर रख लें। इसमें से आधा चम्मच चूर्ण को पानी के साथ सुबह-शाम लेने से गुर्दे की पथरी नष्ट हो जाती है।
  17. इलायची : इलायची, शिलाजीत तथा पीपर को 3-3 ग्राम की मात्रा में लेकर चूर्ण बना लें। इस चूर्ण में थोड़ी-सी मिश्री मिलाकर पानी के साथ प्रतिदिन सुबह-शाम खायें। इससे गुर्दे की पथरी गलकर निकल जाती है।
  18. आम के पत्ते : आम के पत्तों को सूखाकर बारीक चूर्ण बनाकर रख लें। प्रतिदिन सुबह-शाम इसका 2 चम्मच चूर्ण पानी के साथ लेने से कुछ दिनों में ही पथरी गलकर पेशाब के द्वारा निकल जाती है। आम के ताजे पत्तों को छाया में सुखाकर बारीक पीस लें और 8 ग्राम बासी पानी के साथ सुबह के समय इसकी फंकी लें। इससे कुछ ही दिनों में पथरी गलकर नष्ट हो जाती है।
  19. अखरोट : अखरोट को छिलके समेत पीसकर चूर्ण बना लें। इसमें से 1-1 चम्मच चूर्ण ठंड़े पानी के साथ प्रतिदिन सुबह-शाम सेवन करने से पथरी रोग ठीक हो जाता है। अखरोट को कूटकर और छानकर चूर्ण बना लें। इसमें से एक-एक चम्मच चूर्ण सुबह-शाम ठंड़े पानी के साथ कुछ दिनों तक नियमित रूप से सेवन करने से पथरी मूत्र-मार्ग से निकल जाती है।
  20. सोंठ : सोंठ 4 ग्राम, वरना 4 ग्राम, गेरू 4 ग्राम, पाषाण भेद 4 ग्राम तथा ब्राह्मी 4 ग्राम को एकसाथ मिलाकर काढ़ा बना लें। इस काढ़े में आधी चुटकी जवाखार मिलाकर प्रतिदिन सुबह-शाम पीयें। इससे पथरी गलकर निकल जाती है।
  21. त्रिफला : साठी की जड़, पाषाण भेद व गोखरु 6-6 ग्राम, त्रिफला 15 ग्राम, तथा अमलतास का गूदा 10 ग्राम को लेकर 500 मिलीलीटर पानी में उबालें। 100 मिलीलीटर पानी शेष रहने पर उसे छानकर प्रतिदिन सुबह-शाम पीयें। इसे पथरी घुलकर निकल जाती है।
  22. मक्का : मक्के को तथा जौ को अलग-अलग जलाकर भस्म (राख) बनाकर पीस लें तथा अलग-अलग बर्तन में रखें। प्रतिदिन सुबह मक्के की दो चम्मच भस्म (राख) एक कप पानी में मिलाकर पीयें तथा शाम को जौ भस्म (राख) 2 चम्मच एक कप पानी में मिलाकर पीयें। इससे पथरी गलकर निकल जाती है।
  23. जीरा : जीरा और चीनी को बराबर मात्रा में पीसकर 1-1 चम्मच भर ताजे पानी से रोजाना 3 बार खाने से पथरी, सूजन व मूत्रावरोध रोग में लाभ होता है।
  24. आंवला : सूखे आंवले का चूर्ण बनाकर मूली के रस के साथ मिलाकर खाने से मूत्राशय की पथरी ठीक हो जाती है।
  25. सूखा धनिया : 50 ग्राम सूखा धनिया, 50 ग्राम सौंफ तथा 50 ग्राम मिश्री को 1.5 लीटर पानी में सुबह के समय भिगो दें तथा शाम को छानकर पीस लें। फिर इसी पानी में इसे घोलकर और छानकर पीयें। इस प्रकार से सुबह-शाम इसका सेवन करने से पथरी में लाभ मिलता है।
  26. हल्दी : हल्दी और पुराने गुड़ को छाछ में मिलाकर सेवन करने से पथरी में लाभ मिलता है।
  27. जौ : जौ का पानी पीने से पथरी निकल जाती है। पथरी के रोगियों को जौ से बनी चीजें, जैसे-रोटी, जौ का सत्तू लेना चाहिए। इससे पथरी निकलने में लाभ मिलता है तथा पथरी बनती भी नहीं है। आंतरिक बीमारियों और आंतरिक अवयवों की सूजन में जौ की रोटी खाना लाभकारी होता है।
  28. गाजर : मूत्राशय की सूजन दूर करने और गुर्दो की सफाई के लिए 150 मिलीलीटर गाजर, चुकन्दर, ककड़ी या खीरे का रस एक साथ मिलाकर पीने से लाभ मिलता है। गुर्दे और मूत्राशय की पथरी को गाजर का रस तोड़कर बाहर निकाल देता है। गाजर का रस रोजाना 3-4 बार पीने से पथरी निकल जाती है। गाजर के बीजों को पीसकर फंकी लेने से पथरी में आराम मिलता है। गाजर का रस निकालकर प्रतिदिन सुबह-शाम पीयें। यह पित्ताशय (पित्त से होने वाली) पथरी को गला देती है।
  29. तुलसी : तुलसी गुर्दों की कार्यक्षमता को बढ़ाती है। 1 चम्मच तुलसी के रस में 2 चम्मच शहद और 3 चम्मच पानी मिलाकर लगातार 4-5 महीने तक पीते रहने से पथरी गलकर बाहर निकल जाती है।
  30. गेंदा : गेंदे के पत्तों के 20-30 मिलीलीटर काढ़े को कुछ दिनों तक दिन में 2 बार सेवन करने से पथरी गलकर निकल जाती है।
  31. कलौंजी : 250 ग्राम कलौंजी को पीसकर, 125 ग्राम शहद में मिला लें। इस मिश्रण के दो चम्मच, आधा कप पानी और आधा चम्मच कलौंजी के तेल में मिलाकर रोजाना एक बार खाली पेट सेवन करने से पथरी में लाभ मिलता है और पथरी 21 दिनों में ही ठीक हो जाता है।
  32. बथुआ : 1 गिलास कच्चे बथुए के रस में शक्कर मिलाकर रोजाना सेवन करने से पथरी गलकर बाहर निकल जाती है।
  33. तेजपत्ता : प्रतिदिन 5-6 तेजपत्तों को चबाने से पीलिया और पथरी नष्ट हो जाते हैं।
  34. तिल : छाया में सूखी तिल की कोमल कोपलों की राख को 7 से 10 ग्राम की मात्रा में रोजाना खाने से पथरी गलकर निकल जाती है।
  35. बैंगन : बैंगन का साग खाने से पथरी पेशाब के साथ बाहर आ जाती है। बैंगन को आग में पकाकर उसके बीज निकाल लें। फिर उसका भर्ता बनाकर 15 से 20 दिन सेवन करें, इससे पथरी गलकर निकल जाती है।
  36. तोरई : तोरई की बेल गाय के दूध या ठंड़े पानी में घिसकर रोजाना सुबह 3 दिन तक सेवन करने से पथरी खत्म हो जाती है।
  37. अशोक : अशोक के 1-2 ग्राम बीजों को पानी में पीसकर नियमित रूप से 2 चम्मच की मात्रा में पीने से मूत्र न आने की शिकायत और पथरी के कष्ट में आराम मिलता है।

Source

Loading...

थायरॉइड का पक्का इलाज जिसे बताया है महर्षि चरक ने चरक संहिता में, एक बार जरूर पढ़ें

थॉयराइड को साइलेंट किलर माना जाता है, क्योंकि इसके लक्षण व्यक्ति को धीरे-धीरे पता चलते हैं और जब इस बीमारी का निदान होता है तब तक देर हो चुकी होती है। इम्यून सिस्टम में गड़बड़ी से इसकी शुरुआत होती है लेकिन ज्यादातर चिकित्सक एंटी बॉडी टेस्ट नहीं करते हैं जिससे ऑटो-इम्युनिटी दिखाई देती है। इस ग्रंथि के सही तरीके से काम न कर पाने के कारण कई तरह की समस्यायें जैसे वज़न बढ़ना इसकी एक मुख्य समस्या होती हैं।

थायराइड एक महिलाओं के लिए गंभीर बीमारी बनती जा रही है .एक रिपोर्ट के अनुसार भारत में हर 10 महिलाओं में से 8 महिलाओं के अन्दर थायराइड देखे जा रहे हैं .आज मैं आपको थायराईड के लक्षण और इसका महर्षि चरक ने चरक संहिता में जो उपचार बताया है ,उसे बताने जा रहा हूँ।

थायराइड के लक्षण :

  • अगर किसी के गले में सूजन हो जाती है .इसमें सुई के चुभने जैसा दर्द होता है .इसमें रोगी का मुंह मुरझाया हुआ और गला और तालू सूखा रहता है। धड़कन की गति धीमी पद जाती है .जोड़ों में पानी आ जाता है जिससे दर्द होता है और चलने में भी दिक्कत होती है।
  • शरीर का वजन तेजी से बढ़ने लगता है और शरीर में सूजन अ जाती है .दूसरों की अपेक्षा ठण्ड ज्यादा लगना.गर्दन में गांठ और गर्दन के निचले हिस्से में दर्द होना .बोलने तथा साँस लेने में दर्द होना .बालों का झड़ना और दर्द होना .भूख बढ़ जाती है और काम करने में मन नहीं लगता .डिप्रेशन महसूस होना ,बात बात में भावुक हो जाना और काम में अरुचि इत्यादि।

थायराइड का पक्का इलाज और सावधानियां

  1. महर्षि चरक के अनुसार थायराइड का रोग अधिक दूध पीने वाले, साबुत मूंग, पुराने चावल, जों, सफ़ेद चने, गन्ने का जूस और दुग्ध पदार्थों का सेवन करने से नहीं होता है। खट्टे फलों का सेवन कम से कम करें .कचनार का प्रयोग इस ग्रंथि को अच्छी तरह से सक्रीय रखता है।
  2. इसके अलावा ब्राम्ही ,आंवला ,गुग्गुल और शिलाजीत भी बहुत लाभदायक होते हैं। 11 से 22 ग्राम जलकुम्भी का पेस्ट बना कर थायराइड वाले स्थान पर बहुत लाभ मिलता है। यह आयोडीन की कमीं को भी पूरा करती है। जलकुंभी का उपाय बहुत ही कारगर है।
  3. आँवला चूर्ण और शहद : आपको लग रहा होगा की आँवला चूर्ण और शहद एक साधारण सा नाम है लेकिन आपको बता दूँ की मैंने अभी तक जितने भी थाइरॉइड से ग्रसित रोगी थे उनको यह उपाय बताया और सत्-प्रतिशत परिणाम मिला, इसका असर 15 दिनों में आपको महसूस होने लगेगा। आप सुबह उठते ही खाली पेट एक चम्मच शहद (ऑर्गेनिक शहद) में 5-10 ग्राम आँवला चूर्ण को मिक्स कर ऊँगली से चाटे यही प्रक्रिया रात को खाना खाने के 2 घंटे बाद या सोते वक़्त दोहराये, परिणाम आपके सामने होगा बेहद आसान उपाय है लेकिन अचूक कारगर है जो मोटापे को भी कंट्रोल करता है। आप अपना अनुभव औषधि सेवन के कुछ दिन बाद हमे जरूर बताये। अखरोट भी इस बीमारी के उपचार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
  4. नारियल के तेल में पाए जाने वाले फैटी एसिड से बहुत लाभ मिलते है हैं .यह शरीर के अंगों और मस्तिष्क को बहुत लाभ पहुंचता है .इसके साथ ही यह हईपोतथेरादिज्म नामक रोग को ख़त्म करता है .जिसके द्वारा थायराइड फैलता है .

 

इन बातों का रखे ख्याल :

 

  1. एल्कोहल का सेवन : थायराइड की परेशानी होने पर एल्कोहल का सेवन करने से भी आपका मोटापा बढ़ जाता है। इसके अलावा इससे आपका एनर्जी लेवल कम हो जाता है और रात को नींद न आना, बेचैनी और घबराहट जैसी समस्याएं हो जाती है।
  2. समय पर दवाई लेना : थायराइड की दवा नियमित और सही समय पर लेने से आपका वजन नहीं बढ़ता। कुछ लोग थायराइड की समस्यां को मामूली समझ कर इग्नोर कर देते है। इसमें दी जाने वाली एंडरएक्टिव दवाओं से वजन कम करने में मदद मिलती है। इसलिए इनका सेवन जरुर करें।
  3. हेल्दी भोजन : थायराइड में वजन कम करने के लिए रोजाना समय पर हेल्दी भोजन लें। अपने भोजन में सब्जियां और फल को शामिल करें। इसके अलावा वसायुक्त डेयरी उत्पादों और प्रोटीन खाद्य पदार्थों का सेवन न करें।
  4. नियमित व्यायाम : इस बीमारी के कारण बढ़ रहें मोटापे को कम करने के लिए नियमित व्यायाम करें। सप्ताह में कम से कम पांच दिन तीस मिनट रोज व्यायाम या स्विमिंग करने से आपका मोटापा गायब हो जाएगा।
  5. जूस पीना : थायराइड में चाय का अधिक सेवन करने से भी मोटापा बढ़ जाता है। इसके बजाए आप रोजाना चुकंदर, अनानास और सेब से बना जूस पी सकते है। रोजाना इसे पीने से आपका मोटापा भी कम हो जाएगा और आपको एनर्जी भी मिलेगी।

हायपोथाइरॉयडिज्म में न खाएं

  1. सोया प्रोडक्ट : इनमें फाइटो एस्ट्रोजन होता है. इससे हायपोथाइरॉयडिज्म की प्रोब्लम बढ़ती है।
  2. कॉफी : इसमें मौजूद कैफीन की वजह से थाय थायरोक्सिन दवा का अब्जोर्बशन नहीं होता है।
  3. ऑयली और फैटी फ़ूड : इनमें मौजूद कैलोरी की अधिक मात्रा हायपोथाइरॉयडिज्म को बढ़ाती है।
  4. मीठी चीजें : इससे बॉडी के मेटाबोलिज्म पर असर पड़ता है. हायपोथाइरॉयडिज्म की प्रोब्लम बढती है।
  5. ब्रोकली : इनसे नार्मल फंक्शन के लिए जरूरी आयोडीन अब्जोर्बशन की क्षमता घट जाती है।
  6. सीफूड : इसमें आयोडीन होता है जो हायपोथाइरॉयडिज्म की प्रोब्लम बढ़ाता है. हायपरथाइरॉयडिज्म पर न खाएं ये चीजें।
  7. रिफाइंड फ़ूड : इससे ब्लड शुगर और हार्मोन का लेवल बिगड़ सकता है, प्रोब्लम बढ़ सकती है।
  8. दूध और डेयरी प्रोडक्ट्स :  से हायपोथाइरॉयडिज्म की प्रोब्लम बढ़ती है,
  9. रेड मीट : इससे हायपोथाइरॉयडिज्म के कारण होने वाली इन्फ्लेमेशन की प्रोब्लम बढ़ सकती है।
  10. अल्कोहल : इससे एनर्जी लेवल कम होता है और हायपोथाइरॉयडिज्म की प्रोब्लम बढती है।

Source

Loading...

जल्दी पतला होने और पेट अन्दर करने की आयुर्वेदिक दवा

Loading...

अपनाएँ ये आयुर्वेदिक फ़ोर्मुला :

  • हमें खाने के डेढ़ घंटे बाद पानी पीना है, ये याद रखे कि डेढ़ घंटे बाद ही पानी पीना है. लेकिन पानी कैसे पीना है, ये बहुत महत्व की बात है. आप अभी सामान्य रूप से पानी कैसे पीते है, एक गिलास पानी भरा मुह में लगाया गट गट गट एक बार में ही पी लिया, गिलास एक बार में ही ख़त्म. कुछ लोग मुंह खोल लेते है, और खोलकर ऊपर से गिराते है. और पानी लगातार गटकते जाते है ये दोनों तरीके बहुत गलत है।
  • अगर आप घट घट घट लगातार पानी पी रहे है तो आपके शरीर में तीन रोग तो जरुर आने वाले है, पहला Appendicitis, दूसरा हर्निया (आंतों का उतरना) और तीसरा Hydrocele. ये हर्निया सबसे ज्यादा उन्ही लोगो को आता है जो पूरा गट गट के एक बार में ही पानी पीते है और जो Hydrocele है ये थोड़ी उम्र के बाद आती है विशेष रूप से ये पुरषों में आती है. हर्निया तो माताओं में भी आ जाता है लेकिन ये Hydrocele मर्दों की बीमारी है. ये तीनो रोग उन लोगो को जरुर आते है जो एक साथ पूरा लोटा या गिलास पानी गटकते है।
  • मतलब ये कि एक साथ गट गट पानी पीना अच्छा नही है तो आपके मन में सवाल आ रहा होगा कि पानी कैसे पीना है. तो हम आपको भाई राजीव दीक्षित जी द्वारा बताया गया तरीका बताते है. जो पानी पिने का सबसे उत्तम नियम है. आयुर्वेद में पानी पीने का सही तरीका वही बताया गया है जैसे आप चाय पीते है जैसे आप कॉफ़ी पीते है और जैसे आप गर्म दूध पीते है. सिप-सिप करके पीना है. एक सिप लिया फिर थोड़ी देर बाद दूसरा सिप लिया फिर थोड़ी देर बाद तीसरा सिप लेना है. अगर आप सिप करके पानी पी रहे है तो मैं आपको जितने चाहे मर्जी के स्टाम्प पेपर पे लिखकर देने को तैयार हु कि जो भी व्यक्ति जिंदगी में सिप करके पानी पिएगा, आयुर्वेद की गारंटी है कि जिंदगी में कभी भी उसको मोटापा नही आ सकता. कभी भी उस व्यक्ति का वजन नही बढ़ेगा. जितना वजन होना चाहिए, अगर पानी सिप करके पी रहे है तो जिंदगी भर उतना ही वजन रहेगा।
  • आप उसका उल्टा प्रश्न पूछ सकते है कि अगर वजन बढ़ गया है तो, तो आप बिलकुल चिंता ना करे. आप सिप करके पानी पी लीजिये 6 से 7 महीने में 10 किलो वजन आपका घट जायगा. ये जो मोटापा है, ये धीरे धीरे आया है, एक दम नहीं आया है. इसलिए धीरे धीरे ही कम होगा. यही प्रकृति का नियम है. अगर आप इसके विपरीत जाकर वजन कम करेंगे तो एक बार तो कम हो जायेगा लेकिन जैसे ही आप उस चीज को छोड़ दोगे पहले से भी ज्यादा मोटापा आ जाएगा।
  • अब आपके मन में एक सवाल आयेगा कि पानी ऐसे पीने से वजन ज्यादा घट गया तो?. उसकी आप बिलकुल भी चिंता मत करिये, जितना बढ़ा हुआ है उतना ही घटेगा. घटने के बाद स्थिर हो जाएगा. आप हमेसा सिप करके ही पानी पीजिये. इसका दूसरा फायदा ये होगा कि अभी आप कल से ही देखेंगे, अगर सिप करके पानी पिने की आदत अपने डाली तो ये जो घुटने का दर्द है ये 7 दिन लगातार पानी ऐसे पीने से 25 % ख़त्म हो जायेगा. ऐसे ही अगर एडी का दर्द है, या जॉइंट का पैन ये तो 7 दिन में 100 % खत्म हो जायगा।
  • ये जो जॉइंट में पैन आपको होता है ये 25 से 30% 7 दिन में कम हो जायगा और सवेरे सवेरे उठते ही जिनको सर दर्द होता है, चक्कर आते है, ये 7 दिन में तीनो ही गायब हो जायंगे. पहला सूत्र था खाना खाने के बाद पानी नही पीना है, डेढ़ घंटे के बाद पीना है. और अगर कुछ पीना है  तो सुबह जूस पीना है, दोपहर को लस्सी या छांछ पीनी है, रात को दूध पीना है और दूसरा सूत्र ये है कि पानी हमेसा घूंट घूंट थोडा थोडा करके पीना है।

मोटापे और पेट की चर्बी गलने के लिए 3 चमत्कारी औषधि

  1. अलसी : ये पेट की चर्बी को कम करने में मदद करता है क्योंकि इसमें ओमेगा 3 फैटी एसिड और फाइबर भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। इसका यूज करने के लिए बीज को4 मिनट तक गर्म करना होगा ।
  2. जीरा : सूखा हुआ जीरा लें, अगर आपको लगता है कि उसमें नमी है तो उसे धूप में सुखा लें। जीरा मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करता है और इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है। जिससे चर्बी घटती है।
  3. अजवाइन : अजवाइन पेट के लिए बहुत फायदेमंद होती है। ये भी चर्बी घटाने में मदद करती है।

3 औषधियों का कारगर चूर्ण बनाने का तरीका

  • इस चूरन को बनाने के लिए आपको 3 चम्मच असली के बीज, 2 चम्मच जीरे, 2 चम्मच अजवाइन को लेना है। अलसी का बीज सिके हुए होंगे। इन तीनों को अच्छे से मिलाकर पीस लें। अब चूर्ण तैयार हो जाएगा। ये चूरन पेट की चर्बी को तेजी से पिघलाएगा।

चूर्ण सेवन करने का तरीका 

  • इस चुर्ण को लेते वक्त ये ध्यान रखना है कि आपको खाना खाने के बाद और पहले गुनगुन पानी ही लेना है। इसके साथ ही पूरे दिन पर्याप्त पानी पीना होगा। एक चम्मच चूर्ण को गुनगुने पानी के साथ डेली नाश्ता करने से पहले लेना है। डेली यूज से पेट की चर्बी 10 दिनों में ही कई किलो तक कम हो जाएगी। अगर और जल्दी रिजल्ट चाहते हैं तो इसे दिन में दो बार ले सकते हैं। एक चम्मच सुबह नाश्ते के पहले और एक चम्मच रात को खाने से पहले ले सकते हैं। चूरन लेते वक्त ये रखें ध्यान की इस चूर्ण को लेते वक्त ये ठंडी चीजों का सेवन करना होगा क्योंकि अलसी खाने में गर्म होती है।

 

  • मनुष्य का मोटापा और वजन बढ़ना एक बात नहीं है। किसी व्यक्ति के लिए मोटा शब्द का प्रयोग तब किया जाता है जब उसके शरीर में चर्बी की मात्रा काफी ज्यादा हो तथा उसका वजन भी उसके कद अनुसार कम से कम 20 प्रतिशत ज्यादा हो।
  • मोटापा बढ़ने से हृदय तथा फेफड़ों जैसे भीतरी अंगों पर ही केवल असर नहीं पड़ता बल्कि मोटे व्यक्ति को मधुमेह, खून का दाब तथा जोड़ों में जलन आदि रोग होने की संभावना भी बढ़ जाती है। सुंदर दिखना कौन नहीं चाहता, सुंदर दिखने के लिए स्लिम और फिट दिखना भी जरुरी होता है | धरती पर हर दुसरे आदमी को मोटापे की समस्या है | इस का कारण है ख़राब खान पान , व्यायम की कमी और भाग दौड़ वाली दिनचर्या | इस का समाधान है सही आहार और व्यायाम | लेकिन आज कल की भाग दौड़ वाली जिन्दगी में किसी के पास इतना समय नहीं है | आज हम आपको एक्यूप्रेशर द्वारा वज़न कम करने का उपाय बताएँगे जो वास्तविक में काम करता है क्यूँकि भगवान ने हमारे शरीर में हर बीमारी को ख़त्म करने लिए सक्षम बनाया है लेकिन जो आलसी लोग होते है व्यायाम या एक्यूप्रेशर पद्धति अपनाने का समय नही होता है वो दवाइयों का सहारा लेते है, वरना हमारा शरीर बिना दवाइयों के भी ठीक हो सकता है। नीचे बताए गये एक्यूप्रेशर बिंदु को लगातार 10-20 सेकंड के लिए दबाए और छोड़े यह प्रक्रिया लगातार 5 मिनट तक दौहराए। जब आप फ़्री हो दिन में कर सकते है आपका मेटबोईलिस्म इससे ठीक होगा चर्बी गलने लगेगी और देखते ही देखते मोटापा ख़त्म हो जाएगा।

मोटापे का कारण-

  • शरीर में मोटापा बढ़ने का सबसे प्रमुख कारण भोजन में अत्यधिक मात्रा में चर्बी बनाने वाले पदार्थ तथा श्वेतसारिक पदार्थों का सेवन करना है। मोटापा रोग किसी ग्रंथि की दोषपूर्ण अवस्था के कारण भी हो जाता है क्योंकि अगर शरीर की कोई ग्रंथि ठीक से काम नहीं करती तो आदमी चाहे कितने भी कम भोजन का सेवन क्यों न करे फिर भी उस व्यक्ति का वजन बढ़ता ही चला जाता है।

इसके अलावा मोटापा बढ़ने के निम्नलिखित कारण भी हो सकते हैं-

  • शरीर में पाई जाने वाली थाइरॉइड ग्रन्थि के ठीक से काम न करने के कारण मोटापे का रोग हो सकता है।
  • अगर भोजन को अच्छी तरह से न चबाकर खाया जाए तो शरीर में ज्यादा कैलोरी बनती है जिसके कारण शरीर के वजन तथा चर्बी में बढ़ोत्तरी होती है।
  • यौनग्रन्थि के कम सक्रिय होने से भी स्त्रियों के शरीर में चर्बी की वृद्धि हो जाती है जिसके कारण ऐसी स्त्रियां अक्सर बहुत मोटी हो जाती है।
  • नियमित रूप से व्यायाम करने से काफी हद तक मोटापे से छुटकारा पाया जा सकता है। मोटापे से पीड़ित व्यक्ति अगर संतुलित भोजन का सेवन करे तो उसके वजन में अंतर आ सकता है। फिर भी वजन को सामान्य बनाए रखने के लिए पौष्टिक भोजन तथा चर्बी को कम करने वाले भोजन का सेवन करना चाहिए। भूख से ज्यादा भोजन कभी नहीं करना चाहिए तथा शर्करा और चर्बी वाले पदार्थों को भोजन में नहीं खाना चाहिए। जहां तक हो सके तो नमक का इस्तेमाल भोजन में कम करना चाहिए यदि नमक खाना भी हो तो सेंधानमक का इस्तेमाल करना चाहिए। रोगी को अपने भोजन में साग-सब्जी तथा हरा रस ज्यादा लेना चाहिए। रोगी को अंकुरित दालों का सेवन भी करते रहना चाहिए। अधिकतर गेहूं या चावल से बने पदार्थ ही खाने चाहिए। अपने भोजन की मात्रा को कम करते रहना चाहिए इससे चर्बी का बनना रुक जाता है। वैसे कहा जाए तो उतने ही भोजन का सेवन करना चाहिए जितनी की शरीर को आवश्यकता हो। प्रतिदिन सुबह के समय में खाली पेट गुनगुने पानी में शहद और नींबू डालकर पिएं। सोने-तांबे-चांदी- के बर्तनों में पानी रखकर उसे गुनगुना करके पीने से शरीर शरीर में मोटापा बढ़ने का सबसे प्रमुख कारण भोजन में अत्यधिक मात्रा में चर्बी बनाने वाले पदार्थ तथा श्वेतसारिक पदार्थों का सेवन करना है।की फालतू की चर्बी घट जाती है।

 

एक्यूप्रेशर चिकित्सा द्वारा मोटापा रोग का उपचार-

(प्रतिबिम्ब बिन्दु पर दबाव डाल कर एक्यूप्रेशर चिकित्सा द्वारा इलाज करने का चित्र)

मोटापे रोग का उपचार करने के लिए इस चित्र में दिए गए एक्यूप्रेशर बिन्दुओं पर दबाव देकर काफी हद तक मोटापे रोग से छुटकारा मिल सकता है।

शरीर में मोटापे तथा चर्बी को घटाने के लिए –

शरीर में मोटापा बढ़ने का सबसे प्रमुख कारण भोजन में अत्यधिक मात्रा में चर्बी बनाने वाले पदार्थ तथा श्वेतसारिक पदार्थों का सेवन करना है।

(प्रतिबिम्ब बिन्दु पर दबाव डालकर एक्यूप्रेशर चिकित्सा द्वारा इलाज करने का चित्र)

मोटापा रोग हो जाने पर व्यक्ति को अपनी भूख को कम करने के लिए भोजन से आधा घंटे पहले कानों के तीनों बिन्दुओं पर अर्थात अपने दोनों कानों के पीछे अपने अंगूठे को रखकर, जोर से मसाज करनी चाहिए। इस तरह की क्रिया दिन में 2 बार करनी चाहिए। इससे भूख को कम करने में मदद मिलती है। इस क्रिया में अच्छी तरह से दबाव देने के लिए अंगूठे को कान के पीछे रखकर उंगलियों से बिन्दुओं पर दबाव देना चाहिए। इस क्रिया के साथ-साथ अपने भोजन में मिठाई, आइस्क्रीम, तले हुए नमकीन, चावल आदि को नहीं खाना चाहिए बल्कि इसकी जगह पर जितना हो सके हरी साग-सब्जियों का अधिक इस्तेमाल करना चाहिए। इसके साथ-साथ रोगी को फल आदि का सेवन भी करना चाहिए।

Source

घर से निकलते ही मिलें ये संकेत तो भूलकर भी न करें यात्रा

सनातन धर्म बेहद प्राचीन है। हमारे मनीषियों ने मानव जीवन से जुड़े हर पहलू को छुआ है। यात्रा में जाने और इसके पहले मिलने वाले संकेतों से यात्रा की सफलता और विफलता का अनुमान तक हमारे समक्ष पेश कर दिया है। आज भी कई लोग पंचांग में चौघडिय़ा मुहूर्त देखकर शुभ कार्य करते हैं। राहु काल में यात्रा को वर्जित मानते हैं या फिर कुछ उपाय के बाद ही यात्रा करते हैं। आइए आपको बताते हैं कि यात्रा पर निकलते समय कौन से संकेत आपको सावधान करते हैं। ज्योतिषाचार्य पं. नीरू शास्त्री और शकुन विचार विशेषज्ञ अंबिका प्रसाद शुक्ला के अनुसार इन संकेतों को समझकर और छोटा सा उपाय करके आने वाले संकट से बचा जा सकता है।

छींक का आना

आप यदि घर से बाहर निकल रहे हैं और अचानक घर में या फिर घर से निकलते ही छींक हो जाती हैं तो इसे अपशगुन माना गया है। यदि आपके साथ ऐसा होता है आप डरें नहीं। कुछ समय के लिए घर पर ही रुकें और दो घूंट पानी पीकर यात्रा पर रवाना हों, इससे यह दोष टल जाएगा।

किसी का टोंकना

अक्सर कहा जाता है कि जब व्यक्ति कार्य के लिए निकल रहा हो तो उसे पीछे से नहीं टोंकना चाहिए क्योकि ऐसा करने से जिस कार्य के लिए जा रहे है उन्हें उसमें असफलता मिलती है और उनका समय, पैसा इत्यादि सब व्यर्थ हो जाता है। इस अपशगुन से बचने के लिए तत्काल अपने इष्ट देवता का स्मरण करें और दो घूंट पानी पीकर अपने लक्ष्य की तरफ निकल जाएं।

कुत्ते का भोंकना

आप जरूरी काम से जाने के लिए निकले ही हों और तुरंत कोई कुत्ता आकर बेवजह ही आप पर भोंकने लगे और आपको आगे ना बढऩे दें, या फिर रोने की आवाज आए तो इसका अर्थ है कि आप कार्य में बाधा है। इस पर आप डरें नहीं और भगवान विट्ठल का स्मरण कर आगे बढ़ जाएं। हो सके तो एक चम्मच शहद या दही का सेवन करके गंतव्य के लिए रवाना हों।

दूध का गिरना

यात्रा पर जाते समय यदि घर पर दूध उफन जाए, बिल्ली दूध पी जाए तो अपशगुन का संकेत होता है। इस अपशगुन से भयभीत न हों। आप भगवान शिव को दूध और जल मिलाकर चढ़ाएं और यात्रा पर जाएं, इससे दोष टल जाएगा।

Loading...

बिल्ली का रास्ता काटना

यात्रा के दौरान बिल्ली का रास्ता काटना भी अपशगुन माना जाता है। यहां तक कि लोग यात्रा निरस्त कर देते हैं। तो इससे भी आपको डरने की जरुरत नहीं है। ऐसा होने पर कुछ कदम पीछे हट जाएं। पीछे की तरफ मुंह करके 24 बार गहरी सांस लें और फिर अपने इष्ट का स्मरण करके आगे रवाना हो जाएं। इससे दोष टल जाएगा।

गाय का रंभाना

जाते समय गाय के लगातार रंभाने की आवाज सुनाई दे तो समझना चाहिए कि यात्रा क्लेशकारी हो सकती है। कोशिश करें कि आप यात्रा पर न जाएं। यदि यात्रा अधिक जरुरी है तो गाय को ग्रास खिलाकर और भगवान गिरधर गोपाल का स्मरण करके निकलें। इससे दुर्योग टल जाएगा।

लोमड़ी का मिलना

यदि आप यात्रा पर जा रहे हैं और आधा फरलांग चलने से पहले यदि सियार या लोमड़ी रास्ता काट दे तो इसे अशुभ मानना चाहिए। यदि ऐसा हो तो कम से कम 20 मिनिट रुककर और अपने गुरु का स्मरण करके यात्रा के लिए निकलना चाहिए।

कर्कशा नारी और विक्षिप्त

यात्रा पर जाते समय कर्कश स्वभाव की महिला या फिर अंग-प्रत्यंग विक्षत यानी जिसकी आंख या नाक कटी हो, ऐसे व्यक्ति के मिलने पर कम से कम दस मिनिट के लिए यात्रा रोक देनी चाहिए। यदि ऐसा हो तो पानी पीकर या फिर गाय के दर्शन करके यात्रा का शुभारंभ करना चाहिए।

यह भी हैं अशुभ संकेत

– सूखे पेड़ पर तोता बोलता दिखाई देना।
– उल्लू का बाईं तरफ बोलना।
– स्वप्न में बिल्ली का ऊपर गिरना।
– रास्ते में खाली बर्तन का मिलना।
– सड़ी-गली सब्जी या फल दिखना।

दुष्प्रभाव से बचने के उपाय

– गुरु मंत्र का मन में जाप करना
– यथा संभव तिल का दान
– घर में वापस जाकर पानी पीकर निकलना
– जूते-चप्पल बदल कर निकलना
– गाय को ग्रास देकर या फिर मंदिर में दर्शन करके आगे लिए प्रस्थान करना
– सौभाग्यवती स्त्री या कन्या को प्रणाम करके आगे बढऩा।
– घर से मीठा मुंह करके यात्रा पर रवाना होना

नोट : इस आर्टिकल में दी गई जानकारियां रिसर्च पर आधारित हैं । इन्‍हें लेकर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूरी तरह सत्‍य और सटीक हैं, इन्‍हें आजमाने और अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

Source

शनिदेव के द्वारा लिखा जा चुका है इन 5 राशियों का भाग्य, अप्रैल में मिलने वाला है सबकुछ !

शनिदेव को न्याय का देवता माना जाता है और आज हम आपको बतायेंगे उन राशियों के बारे में जिनके उपर शनिदेव अपनी कृपा बरसाने वाले है … मेष राशि आलस्य और तनाव बढ़ सकता है। पैसों की स्थिति में सुधार लाने के मौके मिल सकते हैं। पैसों को लेकर ज्यादा जोखिम न लें। स्वास्थ्य के प्रति थोड़े सावधान ही रहें। मन में शांति एवं प्रसन्‍नता के भाव रहेंगे।

वृषभ राशि आज यात्रा प्रवास पर नहीं जाएं। संतानों के सम्बंध में समस्याएँ खड़ी होंगी। घर में सुख-शांति का माहौल रहेगा। वाद-विवाद में भाग लेने से बचें। स्वाभिमान भंग न हो इसका ध्यान रखें।

मिथुन राशि आपके परिश्रम का मुआवजा मिलता हुआ प्रतीत होगा। शारीरिक और मानसिक सुख बने रहेंगे। दांपत्यजीवन में सुख और आनंद अनुभव करेंगे। अधिकारी वर्ग के प्रोत्साहन से आपका उत्साह बढ़ेगा।

कर्क राशि धन लाभ के योग बन रहे हैं। नए कार्य शुरू कर सकते हैं। शारीरिक और मानसिक सुख बने रहेंगे। कार्यक्षेत्र में कामयाबी मिलने के योग बन रहे हैं। समाज में मान- प्रतिष्ठा बढ़ेगी।

सिंह राशि दिन खुशी से बीतेगा। मन शांत रहेगा। धन खर्च हो सकता है। शारीरिक और मानसिक सुख बने रहेंगे। आपके परिश्रम का मुआवजा मिलता हुआ प्रतीत होगा। आध्यात्मिकता की ओर आकर्षित होंगे।

कन्या राशि मन शांत रहेगा। धन खर्च हो सकता है। जिंदगी सही रास्ते पर है। आज का दिन खुशी से बीतेगा। दूसरों से असहमती हो सकती है। पुरानी समस्याएं हल हो सकती है। कार्य में सफलता और यश मिलने से उत्साह बढ़ेगा।

तुला राशि अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए आपको अधिक मेहनत करनी पड़ सकती है। परिवार का पूरा सहयोग मिलेगा। दोस्तों से अच्छी खबर मिल सकती है। कार्यक्षेत्र में उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ सकता है।

वृश्चिक राशि दफ्तर में सहकर्मियों से अच्छा सहकार मिलेगा। बीमार व्यक्तियों के स्वास्थ्य में सुधार आएगा। विदेश जाने के योग हैं। संतान पक्ष से खुशखबरी मिल सकती है। मााता के स्वास्थ्य की चिंता से मन व्याकुल होगा।

धनु राशि आज दोस्तों से मुलाकात हो सकती है। दोस्तों के साथ बाहर घूमने जा सकते हैं। जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा। मित्रों के साथ यात्रा पर जाने के योग हैं। स्‍वास्‍थ्‍य का ध्‍यान रखें।

मकर राशि जीवनसाथी को स्‍वास्‍थ्‍य विकार हो सकते हैं। किसी पैतृक सम्‍पत्ति से धनलाभ हो सकता है। आप व्यापार के कार्य में व्यस्त रहेंगे और व्यापार में लाभ मिलेगा। सामाजिक क्षेत्र में आप के कार्य की प्रशंसा होगी।

कुंभ राशि आज आपका जीवनसाथी के साथ झगड़ा हो सकता है। धन हानि हो सकती है। पिता का स्वास्थ्य ठीक होगा। आज आप आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे। धैर्यशीलता में कमी आ सकती है।

मीन राशि माता से लाभ होगा। विद्याप्राप्ति के लिए आज अनुकूल दिन है। आर्थिक आयोजन भी अच्छी तरह से होगा। प्रोफेशनल लाइफ में अच्छे अवसर मिलने से तरक्की होगी, सहयोगियों का साथ मिल सकता है।

मेष, सिंह, तुला, कुंभ और मीन राशि वालों का भाग्य शनिदेव के द्वारा लिखा गया है। दोस्तों अगर आपको हमारी यह पोस्ट अच्छी लगे तो लाइक और शेयर जरूर कीजिए और ऐसे ही पोस्ट आगे भी पढ़ते रहने के लिए हमें फॉलो करना ना भूलें, क्योंकि हम हर रोज ऐसे ही पोस्ट आपके लिए लाते रहते हैं।

Source

Loading...

असमान छू रही है इन राशि वालों की किस्मत 1 अप्रैल से 7 अप्रैल तक

आज हम उन राशियों के बारे में आपको बताने जा रहे हैं जिनके लिए अप्रैल का महीना 1 से लेकर 7 तक काफी अच्छा रहने वाला है इनकी किस्मत इनके हाथ में होगी यह चीज भी चीज को प्राप्त करना चाहते हैं उस चीज को प्राप्त करेंगे आइए जानते हैं मैं कौन से राज्य हैं जिनकी किस्मत आसमान छू रही है।

कर्क राशि

इन राशि के जातकों की बात यदि प्रेम जीवन की करी जाए तो इनको अपने जीवनसाथी को सम्मान करने की आवश्यकता है अन्यथा आप दोनों के बीच में कुछ मनमुटाव उत्पन्न हो जाएगा आर्थिक स्थिति की बात करी जाए तो आर्थिक स्थिति में इन की वृद्धि होगी क्योंकि इनके व्यवसाय में वृद्धि एवं आय में वृद्धि होती हुई नजर आ रही है किंतु आपको अपने धन संबंधी मामलों में काफी सतर्कता बरतने की आवश्यकता है अन्यथा आप को नुकसान का सामना भी करना पड़ सकता है आपको हिदायत दी जाती है कि बेवजह किसी भी चीज पर अधिक खर्च ना करें यदि किसी नई चीज को लेने की सोच रहे हैं तो आप ले सकते हैं शत्रु आप से डरे हुए रहेंगे।

धनु राशि

आप राशि वाले जातकों के ऊपर मां लक्ष्मी जी की कृपा पूरी तरह से बनी हुई है आप अपने जीवन में कोई गाड़ी खरीदने की सोच रहे थे तो यह सपना आपका पूरा हो सकता है किंतु गाड़ी चलाते वक्त आपको सावधानी बरतने की आवश्यकता है व्यवसाय में आपके वृद्धि होगी नई जमीन भी खरीद सकते हैं आय के कई प्रकार के अवसर आपके सामने आएंगे किसी भी अवसर को हाथ से ना जाने दें जीवन साथी के साथ आपका थोड़ा मनमुटाव रहेगा किंतु आप अपना प्यार से अपने जीवनसाथी को बना लेंगे।

वृश्चिक राशि

आप राशि वाले जातकों के लिए बहुत ही अच्छा रहने वाला है रोमांस करने के लिए बहुत ही अच्छा समय है और आपका रिश्ता भी मजबूत होगा और प्यार दिन पर दिन बढ़ता जाएगा कहीं बाहर घुमाने अवश्य ले गए आपका जीवनसाथी आपके लिए बहुत ही लाभदायक सिद्ध होगा और कई तरीके से आपके जीवन को बढ़ाने में अहम भूमिका निभाएगा भाग्य आपका पूरी तरह से साथ दे रहा है परिवार में थोड़ा विवाद हो सकता है किंतु आप अपनी बुद्धि का इस्तेमाल करके उनको समाप्त करें।

Loading...

Source

घर की स्त्रियों को गलती से ना करने दें ये 4 काम, 3 नंबर वाले के बारे में जान आपके भी उड़ जायेंगे होश

Loading...

किसी भी घर को स्वर्ग बनाने में घर की स्त्री का सबसे बड़ा हाथ होता है यह तो हम सभी जानते ही है और इसके साथ साथ यह भी कहा जाता है कि हर पुरुष की कामयाबी के पीछे किसी ना किसी महिला का हाथ होता है. वो महिला उसकी माँ भी हो सकती है, पत्नी या बहन भी. महिला घर को स्वर्ग भी बना सकती है और नर्क भी. वैसे तो हमारे समाज में पुरुषों और महिलाओं के लिए अलग-अलग नियम बनाए गए हैं. इन नियमों को प्राचीनकाल से महिलाओं और पुरुषों दोनों के द्वारा अच्छी तरह से निभाया भी जा रहा हैं और यदि कोई भी व्यक्ति इन नियमो के विरुद्ध कोई भी काम करता है तो उसके जीवन में संकट आने में जरा भी समय नहीं लगता है

हमारे समाज में महिलाओं को कुछ खास तरह की मर्यादाओं का पालन करने के बारे में भी बताया गया है. आज हम आपको कुछ ऐसे कामों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनको गलती से भी आपके घर की महिलाओं को नहीं करना चाहिए और अगर घर की महिलाएं इन मर्यादाओं का पालन नहीं करती तो परिवार को बर्बाद होने से कोई नहीं रोक सकता.

शराब पीना
आपने बहुत सी महिलाओं को शराब का सेवन करते हुए देखा होगा. बता दें कि महिलाओं को कभी भी शराब नहीं पीनी चाहिए, क्योंकि शराब के नशे में स्त्रियां मर्यादा की सारी हदें पर कर देती हैं और गलत-गलत हरकतें कर बैठती है जो इनके घर की मर्यादाओं के विरुद्ध होता है शराब पीने का गलत असर आपके परिवार के साथ-साथ समाज पर भी पड़ता है. इसलिए महिलाओं को कभी भी शराब का सेवन नहीं करना चाहिए.

पराये मर्दों से दोस्ती
जब कोई स्त्री किसी की पत्नी बन चुकी होती है तो उसे आपने पति के साथ पूरी वफादारी के साथ निभाना चाहिए |स्त्रियों को कभी भी बुरे पुरुषों से दोस्ती नहीं करनी चाहिए, क्योंकि ऐसा करने से स्त्रियों को बहुत सी परेशानियों को सामना करना पड़ सकता है. चालाक पुरुष स्त्रियों से सिर्फ अपने फायदे के लिए दोस्ती करते हैं और फायदा पूरा हो जाने के बाद स्त्रियों को पूछते भी नहीं हैं. इसलिए स्त्रियों को ऐसे पुरुषों से दूर रहना चाहिए. अगर स्त्रियां ऐसे पुरुषों से दूर नहीं रहती तो उनका घर बर्बाद भी हो सकता है.

बिना वजह यहां-वहां घूमना
वैसे तो घूमना फिरना हमारे सेहत के लिए सही होता है लेकिन कुछ स्त्रियों की आदत होती है वे बिन वजह इधर उधर घूमना पसंद करती है लेकिन आपको बता दे जो भी स्त्रियां बिना किसी वजह के यहाँ-वहां घूमती रहती है उन्हें समाज में अच्छी नज़र से नहीं देखा जाता. महिलाओं को बिना किसी काम के यहां-वहां नहीं घूमना चाहिए. अगर ऐसी महिलाएं शादीशुदा होती है तो उन्हें गलती से भी ऐसा करने के बारे में सोचना भी नहीं चाहिए, क्योंकि उनकी इस हरकत की वजह से उसके मायके और ससुरालवालों दोनों को ही बदनामी का मुंह देखना पड़ सकता है

Source

एयरपोर्ट से पकड़ी गई 5 बेहद ही चौकानें वाली चीज़े, जिसने भी देखा उसे अपनी आँखों पर यकीन नहीं हुआ, आप भी देखे……

किसी भी देश में सबसे सुरछित जगह उस देश का एयरपोर्ट होता है. क्यूंकि एयरपोर्ट एक ऐसा माध्यम है जो दुनिया के कई देशो के नागरिको को एक साथ एक दूसरे से जोड़ती है. अपने देखा या सुना होगा की एयरपोर्ट पर सिक्योरिटी और कैमरो द्वारा ऐसे ऐसे चीज़े पकड़ी जाती है जिस को सुनकर आप होश खो देंगे लोग कभी कभी ते अपने बैग में ड्रग्स,बाघ का बच्चा या बम भी चुपके लेकर आते है पर वो सिक्योरिटी द्वारा पकड़ी जाती है आज हम आप को उन लोगो के बार में बताएंगे जो एयरपोर्ट पर चौकानें वाली चीज़े लेकर आए.

जैसा की आप इस फोटो में देख सकते है की किस तरह ये पति और पत्नी अपने बच्चा को छुपा कर ले जा रहे है. इन के पास इस बच्चा का पासपोर्ट नही था दो दिन तक एयरपोर्ट में बिताने के बाद इन दोनों ने सोचा की बच्चे को बैग में ड़ालकर ले जायेंगे पर एयरपोर्ट के कैमरा स्कैनर ने बड़ी आसानी से इन्हे पकड़ी लिया और फिर इन पर कारवाही चली.

आप इस फोटो में अच्छी तरिके से देख सकते हे की एक आदमी के बैग में मोम से बने 18 मानव सिर है जब सिक्योरिटी वालो ने इन में से एक बैग अधिक पाया ते इन होने उस बैग को खोला ते उस को देख कर उन के होश ही उड़ और उस आदमी को जांच टीम को सौंप दिया गया.

Loading...

इस फोटो में आप देख सकते है की एक डेड बॉडी को सम्मागलिंग के लिए ले जा रही थी जब एयरपोर्ट वालो ने पता किया की ये बैग किस का है ते पैट चला की दो महिला इस डेड बॉडी को सम्मागलिंग कर इस से पैसे कमाना चाहती थी पर इन डोको पहले ही पकड़ा लिया गया.

अगली फोटो चीन के एयरपोर्ट की है जैसा की आप इस फोटो में देख सकते है की इस आदमी ने अपने पुरे शरीर पर iphone बांध ले जा रहा है जब ये ट्राली स्कैनर से पास हुआ था ते सिक्योरिटी वालो को कुछ नहीं मिल पर जब ये मेटल डिटेकर से गज़रा ते ये सिक्योरिटी द्वारा पकड़ा गया इस को फिर पुलिस को सौंप दिया गया.

ये फोटो ऑस्ट्रेलिया एअरपोर्ट की है जिस में इस आदमी के पास चार बम है एअरपोर्ट पर उस के बैग से तो कुछ नही मिला पर जब एक सिक्योरिटी को उस पर गार्ड शक हुआ ते उसे कुछ गड़बड़ लगी गार्ड ने उस का बैग चेक करा ते उसे बैग में से चार बम निकले उस आदमी जेल में डाल दिया गया.

Source

error: Content is protected !!